शनिवार, 7 फ़रवरी 2009

टैब्लाइड आकार में प्रथम साहित्यिक पत्रिका ‘प्रगतिशील आकल्प‘ के संपादक:डा0 शोभनाथ यादव

समकालीन प्रसिद्ध कवि, साहित्यकार एवं संपादक डाo शोभनाथ यादव पिछले पांच दशकों से रचना-कर्म में सक्रिय हैं। 14 जून 1937 को जौनपुर में जन्में डाo यादव (एम.ए., बीएड., पी.एच.डी) टैब्लाइड आकार में देश की प्रथम साहित्यिक पत्रिका ‘प्रगतिशील आकल्प‘ का पिछले 8 वर्षों से कुशल सम्पादन कर रहे हैं। श्रीमती एम.एम.के. काॅलेज, बान्द्रा (पश्चिम), मुंबई में पूर्व रीडर एवं अध्यक्ष, हिन्दी विभाग रहे डाo यादव ‘आकल्प‘ तथा ‘प्रगतिशील आकल्प‘ द्वारा आयोजित महत्वपूर्ण अखिल भारतीय साहित्यिक, सामाजिक एवं राजनीतिक सरोकारों पर बेलाग परिचर्चाओं के आयोजन एवं सम्पादन से सतत जुड़े हुए हैं। देश की प्रायः सभी पत्र-पत्रिकाओं में आपकी रचनाएं प्रकाशित हैं एवं आपकी कविताओं का अंग्रेजी, रूसी, गुजराती, पंजाबी तथा मराठी में अनुवाद हो चुका है। यूरोप तथा की यात्रा द्वारा अपनी सृजनधर्मिता में वृद्धि करने वाले डाॅ0 यादव विश्व हिन्दी सम्मेलन (न्यूयार्क)-2007 में भी शिरकत कर चुके हैं।
कविता-संग्रहः संभावना (समकालीन भारतीय कविताः संपादन 1970), बियाॅण्ड द साइट (अंग्रेजी में अनूदित कविताएं 1973), कविता (बंबई के प्रतिनिधि कवियों का संपादन 1974), भस्मासुर की भूमिका (1980), ईश्वर आतंकवादी (1991), अग्निमुखी (1993), अनाम त्रिज्याएं (1995), प्रजातंत्र का भोंपू (1996), दहक उठा गुलमोहर (1996), समकालीन कविता-1(1996), बोगनवीलिया के फूल(1997), समकालीन कविता-2 (1997), समकालीन कविता-2000(2000), समकालीन कविता-2002(2002), सूअरबाड़ा (2003), मेरी काव्य-यात्रा (2004), जहां जली है मशाल कोई (2004), प्रतिकार (मराठी रूपांतर 2004), नरकगाथा (प्रबंध-काव्य प्रकाश्य)।
गद्य-कृतियांः थैलसगाथा (प्रयोगात्मक उपन्यास), दरख्तों में सूरज (आत्मोपन्यास), अंतर्यात्रा के साये (रचनात्मक डायरी), खंडहरों के बीच मेरी बेचैनियां (प्रयोगात्मक उपन्यास) प्रकाश्य।
चिंतनः राजनीति, समाज एवं साहित्यः डिसिप्लिन इन डेमोक्रेसी एण्ड सोशलिज्म (अखिल भारतीय अंग्रेजी परिचर्चा एवं संपादन 1976), राजनीति बनाम साहित्य (अखिल भारतीय परिचर्चा एवं संपादन 1978), बर्तोल्त ब्रेख्त (1998)।
आलोचनाः कवयित्री महादेवी वर्मा (शोध-प्रबंध 1970)
संपादनः आकल्प (1976 से 2000 तक), इंद्रधनुष (1980), महाश्वेता (1996), महाराष्ट्र हिन्दी परिषद् विशेषांक (1997), समाजवादी जागरण (1999), प्रगतिशील आकल्प (2001 से नियमित पत्रिका), रामदरश मिश्रः सृजन-सम्मान अंक (2004)।
डाॅ. शोभनाथ यादव पर अन्य रचनाकारों की पुस्तकेंः डाॅ. शोभनाथ यादवः व्यक्तित्व एवं कृतित्व (2004)- डाॅ. रीना सिंह द्वारा पी-एच.डी. उपाधि हेतु शोध-प्रबंध प्रकाशित, प्रगतिशील आकल्प द्वारा प्रकाशित ‘समकालीन कविता-2002‘ पर आगरा से गरिमा अग्रवाल द्वारा एम.फिल. उपाधि। शोभनाथ यादव के काव्य में प्रगति-चेतना पर पी.एच.डी. शोध-कार्य जारी, शोभनाथ यादव की जनधर्मी कविताएं (संपादक-डाॅ. करूणाशंकर उपाध्याय), शोभनाथ यादव के काव्य में आधुनिकता (अमित कुमार सिंह द्वारा पी.एच.डी. शोध-कार्य), शोभनाथ यादव के काव्य में संवदेना (श्रीमती कल्पना जैन द्वारा एम.फिल. शोध-कार्य), शोभनाथ यादव की साहित्यिक पत्रकारिता (गुलाबचंद यादव द्वारा एम.फिल. शोध-कार्य)।
पुरस्कार/सम्मानः महाराष्ट्र राज्य हिन्दी साहित्य अकादमी पुरस्कार (1998), महाराष्ट्र हिन्दी परिषद् सारस्वत -सम्मान (1997), अंतराष्ट्रीय आर्यभट्ट प्रतिष्ठान सारस्वत-सम्मान (1997), ‘अभियान‘ उत्तर प्रदेश साहित्य-सम्मान (1999), डाॅ. शोभनाथ यादव सृजन-वर्ष (1996-97), निराला काव्य-सम्मान (2003), साहित्य गौरव सम्मान (जयहिंद फाउंडेशन-2004), उ0प्र0 हिन्दी संस्थान का एक लाख रूपये का राष्ट्रीय पुरस्कार (2006) आदि।
संपर्कः संपादकः ‘प्रगतिशील आकल्प‘, पंकज क्लासेस, जोगेश्वरी (पूर्व),
मुंबई-400060 (मो0-09969580809)

13 टिप्‍पणियां:

आकांक्षा~Akanksha ने कहा…

Really Dr. Shobhnath Yadav is Renowned person.It was nice to read about him on Yadukul Blog !!

KK Yadav ने कहा…

डाॅ0 शोभनाथ यादव टैब्लाइड आकार में देश की प्रथम साहित्यिक पत्रिका ‘प्रगतिशील आकल्प‘ का पिछले 8 वर्षों से कुशल सम्पादन कर रहे हैं...वाकई यह एक स्तरीय पत्रिका है. मैं भी इसका पाठक हूँ. शोभनाथ जी के बारे में इतने विस्तार से जानना रुचिकर लगा.

Ratnesh ने कहा…

शोभनाथ जी के बारे में उत्तम जानकारी के लिए साधुवाद.

Ratnesh ने कहा…

यदुकुल ब्लॉग पर आप तमाम लोगों को प्रस्तुत कर रहे हैं...सराहनीय प्रयास.

डाकिया बाबू ने कहा…

जैसे डाकिया डाक लाता है, यदुकुल बार-बार आपने पिटारे में से सुन्दर विभूतियों को बाहर लाता है.इस ब्लॉग पर आकर वाकई अच्छा लगता है.

Dr. Brajesh Swaroop ने कहा…

डाॅ. शोभनाथ यादव पर अन्य रचनाकारों की पुस्तके देखकर हैरान हूँ. सुन्दर कार्य.

Bhanwar Singh ने कहा…

यदुकुल के बहाने शोभनाथ जी से रु-ब-रु होने का मौका मिला.आभारी हूँ.

बाजीगर ने कहा…

Nice Literary Personality-Nice Post.Congts. to Dr. Yadav.

अखिलेश शुक्ल ने कहा…

Respected yadav ji,
rivew of pragiti sheel aakalpa is avilable on my blog. please visit us--
http;//katha-chakra.blogspot.com

Yuva ने कहा…

Nice one..!!!

Rashmi Singh ने कहा…

डा. शोभनाथ यादव और प्रगतिशील आकल्प के बारे में प्राप्त सुन्दर जानकारी से अभिभूत हूँ..बेहद सराहनीय प्रयास !!

Rashmi Singh ने कहा…

@ अखिलेश शुक्ल !
प्रगतिशील आकल्प के बारे में आपके ब्लॉग पर पढ़कर अच्छा लगा. आपकी रचनाधर्मिता यूँ ही बनी रहे...इसके लिए साधुवाद !!

ilesh ने कहा…

डॉ. शोभनाथजी के बारे मे पढ़ा उन्हे जान ने का आपने मौका दिया इसके लिए आपका शुक्र गुज़ार हू....