सोमवार, 29 नवंबर 2010

विदेशी राजनीति में भी छाये यदुवंशी

भारत वर्ष में यादवों के राजनैतिक उत्कर्ष के तमाम उदाहरण मिलते हैं, पर अब विदेशों में भी तमाम उदाहरण मिलने लगे हैं। नेपाल की जनता ने अपने 240 वर्ष पुराने राजतंत्र को उखाड़कर लोकतांत्रिक पद्धति अपनाई है और डाॅ0 रामबरन यादव को अपना पहला राष्ट्रपति चुना है। डाॅ0 रामबरन यादव ने 1981 में मेडिकल कालेज कलकत्ता से एम0बी0बी0एस0 की डिग्री प्राप्त की और उसके बाद 1985 में एम0डी0 (फिजीशियन) की डिग्री चंडीगढ़ से प्राप्त की। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने लगभग आठ साल तक चण्डीगढ़ में रहकर ही अपनी मैडिकल प्रैक्टिस की। यह भारत और विशेषकर यहांँ के यादवों के लिए गौरव का विषय है।
इससे पूर्व विदेशों में त्रिनिडाड व टोबैगो के पूर्व प्रधानमंत्री श्री वासुदेव पांडे (उनके पूर्वज पानी पिलाते थे, अतः पानी पांडे कहलाने से पांडे सरनेम आया) और मारीशस के पूर्व प्रधानमंत्री अनिरूद्ध जगन्नाथ को भी यादव मूल का माना जाता है। इतिहास गवाह है कि नेपाल में प्रथम राजनेता या राजा यदुवंशी भुक्तिमान गोप रहे हैं। उसी परंपरा में नेपाल के उपप्रधानमंत्री रहे उपेन्द्र यादव, शिक्षा मंत्री रेणु कुमारी, इंग्लैंड में नेपाल के राजदूत राम स्वारथ राय और नेपाल के संसद की डिप्टी स्पीकर चन्द्र लेखा यादव भी यादवों की ही वंशज हैं।

5 टिप्‍पणियां:

Ratnesh Kr. Maurya ने कहा…

भारतीयों की विदेशों में भी धूम है, आखिरकार प्रतिभा तो नहीं छुपती.

Bhanwar Singh ने कहा…

वाह, यह तो बड़े गौरव की बात है. इस जानकारी के लिए आभार.

Bhanwar Singh ने कहा…

वाह, यह तो बड़े गौरव की बात है. इस जानकारी के लिए आभार.

KK Yadava ने कहा…

यह भारत और विशेषकर यहांँ के यादवों के लिए गौरव का विषय है।

Dr. Brajesh Swaroop ने कहा…

विदेशों में यदुवंशियों के उत्कृष्ट प्रदर्शन पर बधाई और शुभकामनायें.