बुधवार, 21 सितंबर 2011

अन्ना हजारे के प्रेरणास्रोत : 'यादव बाबा'

अन्ना हजारे के आन्दोलन के साथ ही 'यादव बाबा मंदिर' भी चर्चा में आ गया है. महाराष्ट्र के अहमद नगर स्थित रालेगण सिद्धि गाँव में आने वालों के लिए आकर्षण का मुख्य केंद्र यादव बाबा मंदिर है जो अन्ना हजारे का तब से निवास स्थान है जब वह 27 वर्ष पहले सेना में अपनी सेवा समाप्त करके इस गाँव में वापस लौटे थे।

इस मंदिर के पीछे भी एक कहानी है. यादव बाबा एक संत थे जो करीब सौ वर्ष पहले इंद्रयाणी नदी के किनारे स्थित आलंदी से रालेगण सिद्धि गांव आए थे। यादव बाबा ने यहाँ आकर समाधि ले ली थी। उनकी स्मृति में ही 'यादव बाबा मंदिर' बनाया गया था. अन्ना हजारे इसी मंदिर में रहकर प्रेरणा पाते हैं और समाज में अलख जगाने के लिए तत्पर हैं. वे स्वयं को ‘मंदिरात्ला अन्ना’ (वह व्यक्ति जो यादवबाबा मंदिर में रहता है), कहना पसंद करते हैं. फ़िलहाल यादव बाबा की स्मृति में बना यह मंदिर अब अन्ना की पहचान बन गया है. फ़िलहाल अन्ना को भले ही सुरक्षा कारणों से मंदिर की बजाय पद्मावती ट्रस्ट हास्टल में स्थानांतरित कर दिया गया हो, पर उनका मन अभी भी यादव बाबा मंदिर में ही बस्ता है. आखिर वहीँ से तो उन्हें प्रेरणा मिलती है !!

('यादव बाबा मंदिर' में रहने के कारण कुछेक लोगों ने अति-उत्साह में ब्लॉग, फेसबुक इत्यादि पर और यहाँ तक कि ई-मेल व SMS द्वारा यह जानकारी भेजी कि अन्ना हजारे यादव हैं, जो कि सही नहीं है. अन्ना हजारे यादव बाबा मंदिर में जरूर एक लम्बे समय से रह रहे हैं, पर वे यदुवंशी नहीं हैं. बाबा रामदेव जरुर यदुवंशी हैं !!)

8 टिप्‍पणियां:

Krishna Kr. Yadav ने कहा…

अन्ना जी के प्रेरणास्रोत बाबा यादव के बारे में अच्छी जानकारी मिली.

Patali-The-Village ने कहा…

अच्छी जानकारी के लिए धन्यवाद|

japanbabu ने कहा…

aap kaise kah sakte hai ki anna yadav nahi hai

Akanksha Yadav ने कहा…

जानकारी भरी रोचक पोस्ट. यादव बाबा के बारे में सारगर्भित जानकारी.

Amit Kumar ने कहा…

अन्ना जी की प्रेरणा का राज खुल ही गया...लालू जी को बताना बताना पड़ेगा.

Amit Kumar ने कहा…

'यादव बाबा' को नमन !!

R R RAKESH ने कहा…

Sabse pahle yadav baba ki jai.Yadav baba ke karan hi anna bhi path par badh rahe hai. Anna ke do bhatije jinke naam me deshmukh laga hai congress me hai. malum ho mharastra me deshmukh KAYASTA jaati apne naam me lagati hai.

यदुवंशम् Yaduvansham ने कहा…

जय यादव जय माधव